रमजान स्पेशल : इबादत

Monthly Seminar for Sisters Only on Sunday, 5th June 2016
May 29, 2016
Ramzan Mahine ka Swagat Kaise Karen?
May 31, 2016

रमजान स्पेशल : इबादत

ईश्वर सबसे बेहतर जानता है कि कौन-सी चीज़ इंसान के लिए लाभदायक है और कौन-सी हानिकारक। ईश्वर इंसान का भला चाहता है इसलिए उसने हर वह काम जिसके करने से इंसान स्वयं को हानि पहुँचाता, करना हराम (अवैध) ठहराया और हर उस काम को जिसके न करने से इंसान स्वयं को हानि पहुँचाता, इबादत कहा और उनका करना इंसान के लिए अनिवार्य कर दिया।

‘इबादत’ का अर्थ वास्तव में बन्दगी और दासता है। आप अब्द (बन्दा, दास) हैं। ईश्वर आपका प्रभु और उपास्य है। दास अपने उपास्य और प्रभु के लिए जो कुछ करे वह इबादत है, जैसे आप लोगों से बातें करते हैं, इन बातों के दौरान यदि आप झूठ से, परनिन्दा से, अश्लीलता से इसलिए बचें कि ईश्वर ने इन चीज़ों से रोका है और सदा सच्चाई, न्याय, नेकी और पवित्राता की बातें करें, इसलिए कि ईश्वर इनको पसन्द करता है तो आपकी ये सब बातें ‘इबादत’ होंगी, भले ही वे सब दुनिया के मामले ही में क्यों न हों।

आप लोगों से लेन-देन करते हैं, बाज़ार में क्रय-विक्रय करते हैं, अपने घर में माता-पिता और भाई-बहनों के साथ रहते-सहते हैं, अपने मित्रों और सम्बन्धियों से मिलते-जुलते हैं। यदि अपने जीवन के इन सारे मामलों में आपने ईश्वर के आदेश को और उसके क़ानून को ध्यान में रखा, हर एक का हक़ अदा किया, यह समझ कर कि अल्लाह ने इसका आदेश दिया है, और किसी का हक़ नहीं मारा यह समझकर कि ईश्वर ने इससे रोका है, तो मानो आपका यह सम्पूर्ण जीवन अल्लाह की इबादत में व्यतीत हुआ। आपने किसी ग़रीब की सहायता की, किसी भूखे को भोजन कराया, किसी बीमार की सेवा की और इन सब कामों में आपने अपने किसी व्यक्तिगत लाभ या सम्मान या यश को नहीं बल्कि ईश्वर ही की प्रसन्नता को ध्यान में रखा, तो इन सब की गणना इबादत में होगी।

इस प्रकार का जीवन सर्वथा ‘इबादत’ ही ‘इबादत’ है, यहाँ तक कि ऐसे जीवन में खाना-पीना, चलना-फिरना, सोना-जागना, बात-चीत करना सब कुछ ‘इबादत’ में शामिल है।

यह ‘इबादत’ का वास्तविक अभिप्राय है और इस्लाम का वास्तविक उद्देश्य मुसलमान को ऐसा ही उपासक और सेवक बनाना है। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए इस्लाम में कुछ ऐसी इबादतें अनिवार्य की गई हैं, जो मनुष्य को इस बड़ी इबादत के लिए तैयार करती हैं। यूँ समझ लीजिए कि ये विशेष इबादतें इस बड़ी इबादत के लिए ट्रेनिंग कोर्स हैं, जो व्यक्ति यह ट्रेनिंग अच्छी तरह लेगा वह इस बड़ी और वास्तविक इबादत को उतनी ही अच्छी तरह अदा कर सकेगा। इसी लिए इन विशेष इबादतों को मुख्य कर्तव्य ठहराया गया है और इन्हें ‘दीन के अरकान’ अर्थात् धर्म-स्तंभ कहा गया है। जिस प्रकार एक भवन कुछ स्तंभों पर स्थित होता है, उसी प्रकार इस्लामी जीवन का भवन भी इन स्तंभों पर क़ायम है। इन्हें तोड़ देंगे तो इस्लाम के भवन को गिरा देंगे।

नमाज़

इन अनिवार्य चीज़ों में सबसे पहली ‘नमाज़’ है।

यह नमाज़ क्या है?

दिन में पाँच बार ज़बान से और अमल से उन ही चीज़ों को दोहराना जिन पर आप ‘ईमान’ लाए हैं। आप प्रातःकाल उठे और सबसे पहले स्वच्छ और शुद्ध होकर अपने ईश्वर की सेवा में पहुँच गए, उसके सामने खड़े होकर, बैठकर, झुककर, भूमि पर सिर रखकर अपने सेवक और दास होने का इक़रार किया, उससे मदद माँगी, उससे मार्गदर्शन चाहा, उसके आदेशों पर चलने की पुनः प्रतिज्ञा की, उसकी प्रसन्नता चाहने और उसके प्रकोप से बचने की इच्छा को बार-बार दोहराया, उसके ग्रंथ का पाठ दोहराया। उसके रसूल (पैग़म्बर) की सच्चाई पर गवाही दी और उस दिन को भी याद कर लिया जब आप उसकी अदालत में अपने कर्मों के लिए उत्तरदायी के रूप में उपस्थित होंगे। इस तरह आपका दिन शुरू हुआ। कुछ घंटे आप अपने कार्यों में लगे रहे फिर ‘ज़ुहर’ (दिन ढलने) के समय ‘मुअज़्ज़िन’ (अज़ान देने वाले) ने आपको याद दिलाया, आओ और कुछ क्षण के लिए उस पाठ को फिर दुहरा लो। कहीं ऐसा न हो कि उसको भूलकर तुम ईश्वर की ओर से असावधान हो जाओ। आप उठे और ईमान ताज़ा करके फिर संसार और उसके कार्य की ओर पलट आए। कुछ घंटों के पश्चात् फिर ‘अस्र’ (दिन ढलने और सूर्यास्त के बीच) के समय आपको बुलाया गया और आपने फिर ईमान ताज़ा कर लिया। इसके पश्चात् ‘मग़रिब’ (सूर्यास्त) हुई और रात शुरू हो गई; प्रातः समय आपने दिवस का आरंभ जिस इबादत के साथ किया था, रात का आरंभ भी उसी से किया, ताकि रात को भी आप उस पाठ को भूलने न पाएँ और उसे भूलकर भटक न जाएँ। कुछ घंटों के पश्चात् ‘इशा’ (सूर्यास्त के लगभग दो घण्टे बाद) की नमाज़ हुई और सोने का समय आ गया। अब अन्तिम बार आपको ईमान की समस्त शिक्षा याद करा दी गई क्योंकि यह शान्ति का समय है। दिन के हंगामे में यदि आपको पूर्णरूप से ध्यान देने का अवसर न मिला हो, तो इस समय इत्मीनान के साथ ध्यान दे सकते हैं।

देखिए! यह वह चीज़ है जो हर दिन पाँच बार आपके इस्लाम के आधार को मज़बूत करती है।

यह बार-बार आपको उस बड़ी ‘इबादत’ के लिए तैयार करती है जिसका अर्थ हम ने अभी कुछ पंक्तियों से पहले आपको समझा दिया है। यह उन सारी धारणाओं को ताज़ा करती रहती है जिनपर आपके मन की पवित्रता, आत्मा का विकास, शील, स्वभाव और आचरण का सुधार टिका हुआ है। विचार कीजिए, ‘वुज़ू’ (नमाज़ अदा करने से पूर्व हाथ, पाँव, मुँह आदि धोने की क्रिया) में आप उस तरीक़े को क्यों अपनाते हैं जो अल्लाह के रसूल (सल्ल॰) ने बताया है और नमाज़ में वे सब चीज़ें क्यों पढ़ते हैं जिनकी शिक्षा अल्लाह के रसूल (सल्ल॰) ने दी है?

इसी लिए तो कि आप हज़रत मुहम्मद (सल्ल॰) के आज्ञापालन को अनिवार्य समझते हैं। क़ुरआन को आप जान-बूझकर ग़लत क्यों नहीं पढ़ते? इसी लिए तो कि आपको उसके ईश्वरीय वाणी होने का विश्वास है। नमाज़ में जो चीज़ें ख़ामोशी के साथ पढ़ी जाती हैं यदि आप उनको न पढ़िए या उसकी जगह कुछ और पढ़ लीजिए तो आपको किसका भय है? कोई मनुष्य तो सुननेवाला नहीं, ज़ाहिर है कि आप यही समझते हैं कि ख़ामोशी के साथ जो कुछ हम पढ़ रहे हैं उसे भी ईश्वर सुन रहा है और हमारी किसी ढकी-छिपी गतिविधि से भी वह बेख़बर नहीं, जहाँ कोई देखनेवाला नहीं होता वहाँ कौन-सी चीज़ आपको नमाज़ के लिए उठाती है?

वह यही विश्वास तो है कि ईश्वर आपको देख रहा है। नमाज़ के समय आवश्यक-से-आवश्यक कार्य छुड़ाकर कौन-सी चीज़ आपको नमाज़ की ओर ले जाती है?

वह यही एहसास तो है कि नमाज़ को ईश्वर ने अनिवार्य किया है, जाड़े में प्रातःकाल और गर्मी में दोपहर को और प्रतिदिन सायंकाल के दिलचस्प मनोरंजनों में मग़रिब (सूर्यास्त) के समय कौन-सी चीज़ आपको नमाज़ पढ़ने पर तत्पर और क्रियान्वित कर देती है?

वह कर्तव्य-बोध नहीं तो और क्या है?

फिर नमाज़ न पढ़ने या नमाज़ में जान-बूझकर ग़लती करने से आप क्यों डरते हैं? इसी लिए कि आपको ईश्वर का भय है और आप जानते हैं कि एक दिन उसकी अदालत में हाज़िर होना है। आप बताइए कि नमाज़ से बेहतर और कौन-सी ऐसी ट्रेनिंग हो सकती है जो आपको पूरा और सच्चा मुसलमान बनानेवाली हो?

मुसलमान के लिए इससे अच्छा प्रशिक्षण और क्या हो सकता है कि वह प्रतिदिन कई-कई बार ईश्वर का स्मरण, और उसके भय और उसके सर्वोपस्थित और सर्वज्ञ होने के विश्वास और अल्लाह की अदालत में पेश होने की धारणा को ताज़ा करता रहे और रोज़ाना कई बार अनिवार्य रूप से अल्लाह के रसूल (सल्ल॰) का अनुसरण करे और प्रातःकाल से सायंकाल तक प्रत्येक कुछ घंटों के पश्चात् उसको कर्तव्यपालन का अभ्यास कराया जाता रहे। ऐसे व्यक्ति से यह आशा की जा सकती है कि जब वह नमाज़ से निवृत होकर सांसारिक कार्यों में व्यस्त होगा, तो वहाँ भी वह ईश्वर से डरेगा और उसके क़ानून का पालन करेगा। और हर गुनाह और पाप के अवसर पर उसे याद होगा कि ईश्वर मुझे देख रहा है। यदि कोई इतनी उच्च कोटि की ट्रेनिंग के पश्चात् भी ईश्वर से न डरे और उसके आदेशों का उल्लंघन करना न छोड़े तो, यह नमाज़ का क़ुसूर नहीं बल्कि स्वयं उस व्यक्ति के विकृत मन का दोष है।

फिर देखिए, अल्लाह ने नमाज़ को जमाअत के साथ (सामूहिक रूप में) पढ़ने की ताकीद की है और विशेष रूप से सप्ताह में एक बार जुमा (शुक्रवार) की नमाज़ जमाअत के साथ पढ़नी अनिवार्य कर दी है। यह मुसलमानों में एकता और बंधुत्व पैदा करनेवाली चीज़ है। उनको मिलाकर एक मज़बूत जत्था बनाती है। जब वे सब मिलकर एक ही ईश्वर की इबादत करते हैं, एक साथ उठते और बैठते हैं तो आप-से-आप उनके दिल एक-दूसरे से जुड़ जाते हैं और उनमें यह एहसास पैदा हो जाता है कि हम सब भाई-भाई हैं। फिर यही चीज़ उनमें एक सरदार के आज्ञापालन की क्षमता पैदा करती है और उनको नियमितता का पाठ पढ़ाती है। इसी से उनमें आपस की हमदर्दी उत्पन्न हो जाती है, समानता और अपनापन आ जाता है। धनवान और निर्धन, बड़े और छोटे, उच्च पदाधिकारी और साधारण चपरासी सब एक साथ खड़े होते हैं, न कोई ऊँची जाति का होता है न कोई नीची जाति का।

यह उन बेशुमार लाभों में से कुछ लाभ हैं जो आपकी नमाज़ से ईश्वर को नहीं बल्कि स्वयं आप ही को प्राप्त होते हैं। ईश्वर ने आपके लाभ के लिए इस चीज़ को अनिवार्य किया है, और न पढ़ने पर उसकी नाराज़ी इसलिए नहीं है कि आपने उसको कोई हानि पहुँचाई बल्कि इसलिए है कि आपने ख़ुद अपने आपको हानि पहुँचाई। कैसी प्रबल शक्ति नमाज़ के द्वारा ईश्वर आपको दे रहा है और आप उसको लेने से भी जी चुरा रहे हैं। कितनी शर्म की बात है कि आप मुख से तो ईश्वर के ईश्वरत्व और रसूल (पैग़म्बर) के आज्ञापालन, और आख़िरत में अपने कर्मों के उत्तरदायित्व को मानें फिर भी आपका आचरण यह हो कि ईश्वर और रसूल (पैग़म्बर) ने जिस चीज़ को आपके लिए सबसे बढ़कर अनिवार्य किया है उसका पालन न करें। आपकी इस नीति के पीछे दो में से कोई एक चीज़ अवश्य काम कर रही है या तो आपको नमाज़ के अनिवार्य होने से इन्कार है या आप उसे अनिवार्य समझते हैं और फिर उसका पालन करने से बचते हैं। यदि अनिवार्य होने से इन्कार है तो आप क़ुरआन और अल्लाह के रसूल (सल्ल॰) दोनों को झुठलाते हैं और फिर इन दोनों पर ईमान लाने का झूठा दावा करते हैं और यदि आप उसे अनिवार्य मानकर फिर उसका पालन नहीं करते तो आप बड़े अविश्वसनीय व्यक्ति हैं, आप पर संसार के किसी मामले में भी भरोसा नहीं किया जा सकता। जब आप ईश्वर की ड्यूटी में चोरी कर सकते हैं तो कोई क्या आशा कर सकता है कि मनुष्यों की ड्यूटी में चोरी न करेंगे।

ईश्वर का अन्तिम सन्देश क़ुरआन, दुनिया में पहली बार रमज़ान के महीने में अवतरित होना शुरू हुआ। इसीलिए रमज़ान का महीना क़ुरआन का महीना कहलाया। इसे क़ुरआन के मानने वालों के लिए शुक्रगुज़ारी का महीना बना दिया गया और इस पूरे महीने रोज़े रखने अनिवार्य किए गए।

यह रोज़ा क्या है?

जिस पाठ को नमाज़ प्रतिदिन पाँच बार याद दिलाती है उसे रोज़ा वर्ष में एक बार पूरे महीने तक हर समय याद दिलाता रहता है।

‘रमज़ान’ (अरबी का नवाँ महीना) आया और सुबह से लेकर शाम तक आपका खाना-पीना बन्द हुआ।

सहरी (अरुणोदय से पूर्व की बेला जिसमें कुछ खा-पी लिया जाता है ताकि दिन में रोज़ा रखने में असाधारण कष्ट न हो।) के समय आप खा-पी रहे थे, अचानक अज़ान हुई और आपने तुरन्त हाथ रोक लिया। अब कैसा ही रुचिकर भोजन आगे आए, कैसी ही भूख-प्यास हो, कितनी ही इच्छा हो, आप शाम तक कुछ नहीं खाते।

यही नहीं कि लोगों के सामने नहीं खाते, नहीं, एकांत में भी नहीं जहाँ कोई देखने वाला नहीं होता, एक बूंद पानी पीना या एक दाना निगल जाना भी आपके लिए असंभव होता चाहे कोई व्यक्ति भी देखने वाला न हो। फिर ये सारी रुकावट एक समय तक ही रहती है।

इधर दिन डूबा और आप ‘इफ़्तार’ (कुछ खा-पीकर रोज़ा खोलने) की ओर लपके। अब रात भर बेख़ौफ़ होकर आप जब और जो चीज़ चाहते हैं खाते हैं।

विचार कीजिए, यह क्या चीज़ है?

इसकी तह में ईश्वर का भय है, उसके सर्वविद्यमान और सर्वज्ञाता होने का विश्वास है, आख़िरत के जीवन और ईश्वर की अदालत पर ‘ईमान’ है, क़ुरआन और रसूल (पैग़म्बर) का पूर्ण आज्ञापालन है, कर्तव्य का ज़बर्दस्त एहसास है, धैर्य और संकटों के मुक़ाबले का अभ्यास है, ईश्वर की प्रसन्नता के मुक़ाबले में मन की इच्छाओं को रोकने और दबाने की शक्ति है। प्रत्येक वर्ष ‘रमज़ान’ का मास आता है ताकि पूरे ही तीस दिन तक ये रोज़े आपको प्रशिक्षित करें और आप में ये समस्त गुण उत्पन्न करें ताकि आप पूरे और पक्के मुसलमान बनें, और ये गुण आपको उस ‘इबादत’ के क़ाबिल बनाएँ, जो एक मुसलमान को अपने जीवन में हर समय करनी चाहिए।

फिर देखिए, अल्लाह ने समस्त मुसलमानों के लिए रोज़ा एक ही विशेष महीने में अनिवार्य किया है ताकि सब मिलकर रोज़ा रखें, अलग-अलग न रखें। इसके बेशुमार दूसरे लाभ भी हैं। सारी इस्लामी आबादी में पूरा एक माह पवित्रता का मास होता है, सारे वातावरण पर ईमान, ईश-भय और आदेशों का पालन और नैतिक पवित्रता और आचरण-सौन्दर्य छा जाता है। इस वातावरण  में बुराइयाँ दब जाती हैं और नेकियाँ उभरती हैं। अच्छे लोग नेक कामों में एक-दूसरे की सहायता करते हैं। बुरे लोग बुरे काम करते हुए शर्माते हैं। धनवान लोगों में ग़रीबों की सहायता की भावना जागृत होती है। ईश्वर के मार्ग में माल ख़र्च किया जाता है। सारे मुसलमान एक हालत में होते हैं। और एक हालत में होना उनमें यह एहसास पैदा करता है कि हम सब एक जमाअत (समुदाय) हैं। रोज़ा उनमें बंधुत्व, सहानुभूति और पारस्परिक एकता उत्पन्न करने का एक कारगर उपाय है।

ये सब हमारे ही फ़ायदे हैं। हमें भूखा रखने में ईश्वर का कोई लाभ नहीं। उसने हमारी भलाई के लिए रमज़ान के रोज़े हमारे लिए अनिवार्य किए हैं। बिना किसी उचित कारण के जो लोग रोज़े नहीं रखते वे अपने ऊपर स्वयं ज़ुल्म करते हैं और सबसे अधिक शर्मनाक नीति उनकी है जो रमज़ान में खुल्लम-खुल्ला खाते-पीते हैं, वे मानो इस बात की घोषणा करते हैं कि हम मुसलमानों के समुदाय से नहीं हैं। हमको इस्लाम के आदेशों की कोई परवाह नहीं है और हम ऐसे स्वच्छन्द हैं कि जिसको ईश्वर मानते हैं उसके आज्ञापालन से खुल्लम-खुल्ला मुँह मोड़ जाते हैं। बताओ जिन लोगों के लिए अपने समुदाय से अलग होना एक आसान बात हो, जिनको अपने सृष्टिकर्ता से बग़ावत करते हुए तनिक भी शर्म न आए और जो अपने धर्म के सबसे बड़े पेशवा के नियत किए हुए क़ानून को खुल्लम-खुल्ला तोड़ दें, उनसे कोई व्यक्ति किस प्रतिज्ञा-पूर्ति, किस सदाचार और विश्वसनीयता, किस कर्तव्यपरायणता और क़ानून के पालन की आशा कर सकता है।

रोज़ा एक इबादत है। रोज़े को अरबी भाषा में ‘‘सौम’’ कहते हैं। इसका अर्थ ‘‘रुकने और चुप रहने’’ के हैं। क़ुरआन में इसे ‘‘सब्र’’ भी कहा गया है, जिसका अर्थ है ‘स्वयं पर नियंत्रण’ और स्थिरता व जमाव (Stability)। इस्लाम में रोज़े का मतलब होता है केवल ईश्वर के लिए, भोर से लेकर सूरज डूबने तक खाने-पीने, सभी बुराइयों (और पति-पत्नी का सहवास करने) से स्वयं को रोके रखना। अनिवार्य रोज़े, जो केवल रमज़ान के महीने में रखे जाते हैं और यह हर व्यस्क मुसलमान के लिए अनिवार्य हैं।

क़ुरआन में कहा गया है—

‘‘ऐ ईमान लाने वालो! तुम पर रोज़े अनिवार्य किए गए, जिस प्रकार तुम से पहले के लोगों पर किए गए थे, शायद कि तुम डर रखने वाले और परहेज़गार बन जाओ।’’ (क़ुरआन, 2:183)

लोगों के विचार एवं व्यवहार में यह परिवर्तन इतना सरल न था, अतः ईश्वर ने यह आवश्यक समझा कि लोगों के अन्दर इस प्रवृत्ति को उत्पन्न करने के लिए उन्हें प्रति वर्ष पूरे एक माह का प्रशिक्षण दिया जाए। उसने अपने सर्वव्यापी ज्ञान के आधार पर प्रशिक्षण के लिए उस माह को चुना, जिसमें क़ुरआन का अवतरण हुआ था और वह था रमज़ान का महीना।

‘‘रमज़ान वह महीना है जिसमें क़ुरआन उतारा गया जो इन्सानों के लिए सर्वथा मार्गदर्शन है और ऐसी स्पष्ट शिक्षाओं पर आधारित है जो सीधा मार्ग दिखाने वाली और सत्य और असत्य का अन्तर खोलकर रख देने वाली हैं। अतः अब से जो व्यक्ति इस महीने को पाये उसके लिए अनिवार्य है कि इस पूरे महीने के रोज़े रखे…।’’ (2:185)

रमज़ान वो महीना है जिसमें क़ुरआन का अवतरण आरंभ हुआ, जिसे ईश्वर ने समस्त मानवजाति के मार्गदर्शन के लिए भेजा और जिसके बारे में ईश्वर ने यह भी बता दिया कि क़ुरआन संसार की समस्त चीज़ों से अधिक महत्वपूर्ण हैं :

‘‘ऐ नबी (सल्ल॰), कहो कि—‘‘यह अल्लाह का अनुग्रह और उसकी दया है कि यह चीज़ उसने भेजी, इस पर तो लोगों को ख़ुशी मनानी चाहिए, यह उन सब चीज़ों से उत्तम है जिन्हें लोग समेट रहे हैं।’’ (10:58)

अर्थात् एक प्रकार से रमज़ान क़ुरआन के अवतरण का वार्षिकोत्सव भी है, जिससे प्रतिवर्ष क़ुरआन से हमारे व्यावहारिक संबंध का नवजागरण होता रहता है और ईश्वरीय मार्गदर्शन से हमारा संबंध टूटने नहीं पाता।

ईद का त्योहार वास्तव में क़ुरआन के अवतरण की ख़ुशी मनाने का त्योहार है, जो रमज़ान समाप्त होने के अगले ही दिन मनाया जाता है।

रमज़ान इस भावना को भी नया जीवन देता है कि क़ुरआन मात्र मुसलमानों की धार्मिक पुस्तक नहीं है, बल्कि यह तो समस्त मानवजाति के लिए है और यह तो पूरे संसार को प्रकाशमय करने आई है और यह मुसलमानों का कर्तव्य है कि वे इस ईश्वरीय संदेश को विश्व के कोने-कोने तक पहुंचाए अन्यथा उन्हें ईश्वर के सामने कठोर दंड भुगतना पड़ेगा।

ज़कात

‘ज़कात’ अनिवार्य चीज़  है। ईश्वर ने प्रत्येक मुसलमान धनवान व्यक्ति के लिए अनिवार्य किया है कि यदि उसके पास कम से कम साढ़े बावन तोला चाँदी या इसके मूल्य के बराबर धन हो और उसे रखे हुए पूरा एक वर्ष बीत जाए, तो वह उसमें से चालीसवाँ भाग अपने किसी ग़रीब नातेदार या किसी मोहताज, किसी असहाय निर्धन, किसी नवमुस्लिम, किसी मुसाफ़िर या किसी क़र्ज़दार व्यक्ति को दे दे। या सत्य-धर्म की सेवा व विस्तार में लगा दे।

इस प्रकार ईश्वर ने धनवानों की सम्पत्ति में निर्धनों के लिए कम से कम  ढाई प्रतिशत भाग निश्चित कर दिया है। इससे अधिक यदि कोई कुछ दे तो यह एहसान है जिसका पुण्य और अधिक होगा।

देखिए, यह हिस्सा अल्लाह को नहीं पहुँचता। उसे आपकी किसी चीज़ की आवश्यकता नहीं। परन्तु वह कहता है कि तुमने यदि प्रसन्नतापूर्वक मेरे लिए अपने किसी ग़रीब भाई को कुछ दिया तो मानो मुझको दिया, उसकी ओर से मैं तुम्हें कई गुना अधिक बदला दूँगा। हाँ, शर्त यह है कि उसको देकर तुम कोई एहसान न जताओ, उसका अपमान न करो, उससे धन्यवाद की आशा न रखो, यह भी कोशिश न करो कि तुम्हारे इस दान की लोगों में चर्चा हो और लोग तुम्हारी प्रशंसा करें कि अमुक सज्जन बड़े दानी हैं। यदि इन सभी नापाक विचारों से अपने मन को शुद्ध रखोगे और केवल मेरी प्रसन्नता के लिए अपने धन में निर्धनों को हिस्सा दोगे तो मैं अपने असीमित धन में से तुमको वह हिस्सा दूँगा जो कभी समाप्त न होगा।

ईश्वर ने इस ‘ज़कात’ को भी हमारे लिए उसी प्रकार अनिवार्य किया है जिस प्रकार नमाज़ और रोज़े को अनिवार्य किया है। यह इस्लाम का बहुत बड़ा स्तंभ है और इसे स्तंभ इसलिए माना गया है कि यह मुसलमानों में ईश्वर (की प्रसन्नता) के लिए बलिदान और त्याग का गुण पैदा करता है। स्वार्थ, तंगदिली और धन-लोलुपता के बुरे गुण को दूर करता है। धन की पूजा करनेवाला और रुपये पर जान देनेवाला लोभी और कंजूस व्यक्ति इस्लाम के किसी काम का नहीं। जो व्यक्ति ईश्वर की आज्ञा से अपने गाढ़े पसीने की कमाई बिना किसी निजी स्वार्थ के निछावर कर सकता हो वही इस्लाम के सीधे मार्ग पर चल सकता है। ज़कात मुसलमानों को इस बलिदान और त्याग का अभ्यास कराती है और उसको इस योग्य बनाती है कि ईश्वर के मार्ग में जब माल ख़र्च करने की आवश्यकता हो, तो वह अपने धन को सीने से चिपटाए न बैठा रहे बल्कि दिल खोलकर ख़र्च करे।

‘ज़कात’ का सांसारिक लाभ यह है कि मुसलमान परस्पर एक-दूसरे की मदद करें। कोई मुसलमान नंगा, भूखा और अपमानित न हो। जो धनवान हैं वे दीन-दुखियों को संभालें और जो निर्धन हैं वे भीख माँगते न फिरें। कोई अपने धन को केवल अपने भोग-विलास और ठाठ-बाट में न उड़ा दे, बल्कि यह भी याद रखे कि उसमें उसकी जाति के अनाथों और विधवा स्त्रियों और ग़रीबों का भी हक़ है। उसमें उन लोगों का भी हक़ है जो काम करने की योग्यता रखते हैं परन्तु धन के न होने के कारण मजबूर हैं। इसमें उन बच्चों का भी हक़ है जो प्राकृतिक रूप से मस्तिष्क और प्रतिभा साथ लाए हैं परन्तु निर्धन होने के कारण शिक्षा नहीं हासिल कर सकते। इसमें उनका भी हक़ है जो अपाहिज हो गए हैं और कोई काम करने के योग्य नहीं। जो व्यक्ति इस हक़ को नहीं मानता वह ज़ालिम है।

इससे बढ़कर क्या ज़ुल्म होगा कि आप अपने पास रुपयों के खत्ते के खत्ते भरे बैठे रहें, कोठियों में ऐश करें, मोटरों में चढ़े-चढ़े फिरें और आपकी जाति के हज़ारों व्यक्ति रोटियों को तरसते हों और हज़ारों काम के व्यक्ति मारे-मारे फिरें, इस्लाम ऐसी ख़ुदग़र्ज़ी का दुश्मन है। ‘काफ़िरों’ (अधर्मियों) को उनकी सभ्यता यह सिखाती है कि जो कुछ धन उनके हाथ लगे उसको समेट-समेट कर रखें और उसे ब्याज पर चलाकर आस-पास के लोगों की कमाई भी अपने पास खीच लें, परन्तु मुसलमानों को उनका धर्म यह सिखाता है कि यदि ईश्वर आपको इतनी रोज़ी दे जो आपकी आवश्यकता से अधिक हो तो उसको समेट कर न रखिए, बल्कि अपने दूसरे भाइयों को दीजिए ताकि उनकी ज़रूरतें पूरी हों और आपकी तरह वे भी कुछ कमाने और काम करने योग्य हो जाएँ।


Courtesy :
Taqwa Islamic School
Islamic Educational & Research Organization (IERO)
MyZavia


 ***इस्लाम, क़ुरआन या ताज़ा समाचारों के लिए निम्नलिखित किसी भी साइट क्लिक करें। धन्यवाद।………


http://taqwaislamicschool.com/
http://myzavia.com/
http://ieroworld.net/en/


Please Share to Others……


Comments are closed.